Search Box

Tuesday, 22 March 2016

CHUTKULE

CHUTKULE

एक बर्तन की दुकान पर पति पत्नी के बीच बहस हो रही थी 
पत्नी - ये गिलास  का सेट लेते है , ये अच्छा है ,
पति - ये बहुत ही  छोटा है थोड़ा बड़ा लेते है 
दूकानदार - भाई साहब , भाभी के हिसाब से  ही  लेलो न , क्या फर्क पड़ता है 
पति - फर्क पड़ता है ,
इसमें हाथ भी  जाना चाहिए न ,
साला धोना तो मुझे ही पड़ता है 

AIK BARTAN KI DUKAAN PAR PATI PATNI KE BICH BAHAS HO RAHI THI
PATNI - YE GLASS KA SET LETE HAI, YE ACCHA HAI,
PATI - YE BAHUT HI CHHOTA HAI, THODA BADA LETE HAI.
DUKANDAR - BHAI SAHAB , BHABHI KE HISAB SE HI LELO N, KYA FARK PADTA HAI
PATI - FARK PADTA HAI,
.
.
.
ISME HATH BHI JAANA CHAHIYE N,
SAALA DHONA TO MUJHE HI PADTA HAI.